इतिहास के 10 सबसे विलक्षित राजपूत


आप ने ये कहावत तो सुनी ही होगी न, “ख़ुदा जब हुस्न देता है नज़ाक़त आ ही जाती है।” ये कहावत या शेर जो भी कहें बिलकुल सही है। और ये सिर्फ हुस्न के साथ ही नहीं बल्कि दौलत के साथ भी लागु होती है। जैसे हुस्न के साथ नज़ाक़त अति है वैसे ही दौलत के साथ नख़रे भी आ जाते है। आज हम ऐसे ही दस रईसजादों के बारे में बताएँगे जिनके बहुत ही अलग शौक और नखरे थे।
दरअसल, सूची में से एक रॉयल्स अभी भी हमारे साथ है, और वास्तव में ब्रिटिश सिंहासन का अगला वारिस है। इन सनकी राजपूतों के पास धन और विशेषाधिकार की प्रचुरता होती है, और उन भत्तों को असामान्य शौक और आदतों में शामिल करना उनके लिए बहुत आसान हो जाता है।सबके अपने-अपने, अलग-अलग हैं, लेकिन यह सूची अत्याचार के बजाय ज्यादातर अजीब तरीकों पर केंद्रित है।
बेशक, इस सूची के अलावा बहुत से ऐसे राजा महाराजा हुए है जिनके अजीबो गरीब शौक थे। ये 10 विकल्प दिलचस्प हैं, लेकिन आप अलग तरीके से चुन सकते हैं।

top wierd royals


10. राजकुमारी मार्गरेट (इंग्लैंड)



अगर आप ने “द क्राउन ” धारावाहिक देखा है तो आप इस हस्ती को अवश्य जानते होंगे। क्यूंकि इस धारावाहिक के सीजन 1 और सीजन 2 में बहुत ही बखूबी दिखाया गया है। नहीं जानते, कोई बात नहीं मैं बताता हूँ। मैं बात कर रहा हूँ इंग्लैंड की राजकुमारी, राजकुमारी मार्गरेट की। ये महाशया अंग्रेजी हुकूमत की महारानी, महारानी एलिज़ाबेथ द्वितीय की छोटी बहन हैं। जिनकी किस्मत में और अंग्रेजी साम्राज्य में महारानी के बाद इनका दूसरा स्थान लेना था, जैसे उनके बहनोई राजकुमार फिलिप की तरह, जिन्होंने शाही जीवनसाथी के रूप में अपनी भूमिका निभाने के लिए संघर्ष किया, वह एलिजाबेथ की छाया में रहने के लिए तैयार हो गयी । वह अपनी खुद की पहचान बनाने के लिए तरसती रही।

क्या उसने ऐसा किया? शायद, शायद नहीं। उसने काफी दिवा रेपुटेशन डेवलप किया, जिसने उन्हें एलिजाबेथ से अलग कर दिया, जिनके पास उच्च शिष्टाचार था, साथ ही साथ ताज और देश के लिए एक पुराने जमाने के कर्तव्य भी थे। मार्गरेट शाही व्यभिचारो को इतना पसंद करती थी कि उसने सच्चे प्यार के लिए भी उन्हें अलग नहीं कर पाई। WWII के सुन्दर युद्ध नायक, कप्तान पीटर टाउनसेंड के साथ उसका दुखद रोमांस, रानी के विरोध के कारण शादी तक नहीं पहुँच पाया। अंततः, यह मार्गरेट ने खुद ही टाउनसेंड के साथ अपने संबंधों खत्म करने का निर्णय लिया।

तो, राजकुमारी मार्गरेट सनकी कैसे थी। खैर, वह एक अय्याश महिला थी जो बहुत अधिक धूम्रपान करती थी , अत्यधिक मद्द्यपान करती थी पार्टियों में बहुत जोर से गाती थी। वह शाही अपने शाही विशेषाधिकार की माँग इतने मनमाने ढंग से करती थी कि उसके कुछ साथियों को ठेस लगती या वे आहत महसूस करती थी। उसने अपने जैसे एक विद्रोही से विवाह किया, जो कभी-कभी असभ्य, तीखा और जैसा वह था वैसा हो जाता था। वह शादी टिक नहीं पाई।


9. किंग चार्ल्स VI (फ्रांस)


चार्ल्स एक पेरिसियन थे जिनका जन्म 1368 के दिसंबर में हुआ था। उन्होंने 1380 में अपने पिता के निधन के समय फ्रांस में गद्दी संभाली थी। उनके सभी बड़े भाई गुजर चुके थे। उनका राज्याभिषेक रिम्स कैथेड्रल में हुआ था। जब वह सिंहासन पर चढ़ा, तो वह केवल 11 वर्ष का था। उसका शासनकाल लंबा था और 42 वर्ष तक चला था। जब वह मरा तब वह राजा था।

उसका शासनकाल लंबा ज़रूर था लेकिन समृद्ध नहीं। यह महत्वकांक्षी राजा अपने बड़े-बड़े उद्यमों के लिए जाना जाता था जो किसी काम के नहीं हुआ करते थे, जैसे कि अपने अधिकार क्षेत्र में लाने और जर्मनी के सिंहासन के लिए फ़्लैंडर्स में घुसपैठ करने का प्रयास करना।
जैसे-जैसे उसकी उम्र बढ़ती गयी, उसका पागलपन भी बढ़ता गया। उसका पागलपन इतना बढ़ गया कि वो चार्ल्स द मैड के नाम से जाना जाने लगा। वह वास्तविकता से इतना दूर हो गया कि उसके लिए बुनियादी चीजों को याद रखना मुश्किल हो गया था, जैसे कि उसका अपना नाम। वह इतना अधीर था कि कभी-कभी हत्या सहित बेहूदा हिंसा के कार्य करने लगा। उनकी सनक एक गंभीर मानसिक बीमारी का कारण थीं, जैसे कि सिज़ोफ्रेनिया।



8. किंग लुडविग II (बावरिया)

यह सनकी शाशक बावेरिया का राजा था और उसने 1864 से 1886 तक शासन किया। उसने किशोरावस्था में ही सिंहासन संभाला। समय के साथ, वह राज्य के विशिष्ट मामलों से अलग हो गया। वह ऐसे मामलों में कभी कभी ही भाग लेता था, लेकिन अपने समय को विस्तृत वास्तु और कलात्मक प्रयासों की देखरेख में बिताना पसंद करता था।

लुडविग ने अपनी समस्त शाही इनकम को अपनी भव्य योजनाओ में उड़ा दिया, जिसमें नेउशवांस्टीन कैसल और कुछ अन्य भव्य महलों का निर्माण भी शामिल था। वो जर्मन संगीतकार, वैगनर को अपना आराध्य मानने के लिए भी प्रसिद्ध था। मैड किंग लुडविग के शासनकाल के दौरान बनाई गई परी कथा महल एक प्रमुख कारण है कि बवेरिया, जो जर्मनी का सबसे बड़ा संघीय राज्य है, आज बहुत सारे पर्यटकों को आकर्षित करता है।


अपनी पसंद के अनुसार, अलग-थलग रहने के कारण, लुडविग II एक स्वप्निल दुनिया में रहता था, और भगवान की कृपा से एक पवित्र राज्य की अवधारणा में विश्वास करता था। हालाँकि, संवैधानिक सम्राट के रूप में उसकी भूमिका के कारण, वह न्यूनतम स्वतंत्रता के साथ एक राजा था।


अपने सपनों की दुनिया में, शानदार वास्तुकला और दुर्लभ, बहुमूल्य खजाने से घिरा हुआ, वह शक्तिशाली रीजेंट की भूमिका निभा सकता था। हिल्टर ने बाद में Neuschwanstein Castle को लूटी गई कला के लिए छिपने की जगह के रूप में इस्तेमाल किया।

7. द ड्यूक ऑफ विंडसर (इंग्लैंड)

पेंसिलवानिया में जन्मी वॉलिस सिम्पसन, जो कि दो बार तलाक़शुदा थी को अपनाने के लिए ब्रिटिश साम्राज्य को ठुकरा देने के फैसले के लिये ड्यूक ऑफ विंडसर को बदनाम है। यह जोड़ी साथ रही, हालाँकि खुशी से नहीं।

शादी करने और एक उग्र हलचल करने के बाद, एडवर्ड VIII विंडसर का ड्यूक बन गया। उनके भाई, जो कि काफी क्रूर और अजीब माने जाते थे, को अपनी पत्नी के साथ किंग जॉर्ज VI के रूप में पदभार संभालना पड़ा, जिन्होंने इंग्लैंड की वर्तमान महारानी एलिजाबेथ द्वितीय और दिवंगत राजकुमारी मार्गरेट को जन्म दिया। सब कहते हैं, किंग एडवर्ड VIII ने सिर्फ 10 महीनों के लिए शासन किया था।


अपने चौंकाने वाले उस कांड से पहले, अपने साफ-सुथरे गुड लुक्स, आसान आकर्षण और लड़कपन के कारण वह ब्रिटिश जनता का पसंदीदा था। उसकी इस आकर्षण और चार्म की बाहरी सतह के नीचे बहुत कड़वाहट और गुस्सा भरा था। उसने कभी भी राजकुमार या राजा होने के विचार को याद नहीं किया।

फिर भी, उनकी प्रसन्नता के रूप में रहने की उनकी स्व-इच्छा और अपने शाही कर्तव्यों को त्यागना, निश्चित रूप से ही उसका सनक था। किसी भी आधुनिक ब्रिटिश सम्राट ने सिंहासन पर राजा एडवर्ड VIII के जितना कम समय नहीं बिताया।

6. कैथरीन द ग्रेट (रूस)

कैथरीन द ग्रेट को कैथरीन II के रूप में भी जाना जाता था और वह 1762 में रूस की महारानी बनी। उसका शासनकाल 1796 तक चला। इस शक्तिशाली नेता का रहस्य निर्विवाद था।

1934 में, उनका जीवन पर आधारित एक फिल्म बनायी गयी। कैथरीन द ग्रेट की अपनी डायरी पर आधारित द स्कारलेट एम्प्रेस जिसमे मारलेन डिट्रिच मुख्या भूमिका में थी। फिल्म काफी हद तक असफल रही, शायद इसलिए कि इसने महामंदी की कठोरता के दौरान प्रदर्शित की गयी थी।

इस शासक के अपने मजबूत बिंदु थे। उसने आत्मज्ञान संस्कृति और पहले से ही बड़े साम्राज्य के विस्तार को अपनाया। लेकिन उसके 12 पराक्रम और सत्ता की भूख ने उसे बदनाम कर दिया। उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए उस पर श्रेष्ठता की अफवाह फैलाई गई। वह गंदी अफवाहों के लिए एक आसान लक्ष्य था, क्योंकि वह एक कामचलाऊ महिला थी।

उज्ज्वल और जिज्ञासु, यह नेता अपने तरीके से जीवन जिया, और खुद को कई भाषाओं में व्यक्त किया। उसने हास्य और राजनीतिक सिद्धांत सहित कई साहित्य प्रकाशित किए।


रूस में सर्फ़्स उसके शासनकाल में बिल्कुल कामयाब नहीं हुए, हालाँकि उन्हें एक बार उनसे मुक्ति की उम्मीद थी। उन्होंने अपनी श्रमसाध्य महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए जबरन श्रम करना समाप्त कर दिया।

5. क्वीन क्रिस्टीना (स्वीडन)

क्रिस्टीना ब्रैंडेनबर्ग की मारिया इलोना और स्वीडन के राजा गुस्तावस एडोल्फस की बेटी थी। वह राजा की एकमात्र वैध संतान थी, क्योंकि उसकी अन्य वैध संतानों का निधन हो चुका था। स्वीडन की क्रिस्टीना ने 1632 से 1654 तक शासन किया। वह 6 साल की उम्र में एक रानी बन गई। 18 साल की उम्र में परिपक्वता के साथ, उसने स्वीडिश साम्राज्य का नेतृत्व करना शुरू कर दिया।

शिक्षित और शादी न करने के लिए दृढ़ संकल्प, उसने 1654 में पदभार छोड़ना चुना। इसके बाद, वह रोमन कैथोलिक बन गई। पद-त्याग के बाद, उसने पोलैंड और नेपल्स के सिंहासन का दावा करने की कोशिश की।


क्रिस्टीना के खर्च करने के तरीके सनकी और घोटाले के स्रोत से परे थे। जब वह सत्ता में थी, उसने इतना खर्च किया कि राज्य दिवालिया होने की कगार पर पहुंच गया। जनता ने कभी-कभी अशांति के शो के साथ वित्तीय कठिनाई के खिलाफ विद्रोह किया।

इस सनकी महिला ने मर्दाना पोशाक को प्राथमिकता दी। उसके त्याग और असामान्य तरीके, जैसे कि दोनों लिंगों के प्रेमियों से प्रेम प्रसंग, उसके युग के सस्वीडन वासियों के लिए एक झटका था। जन्म के समय, उसे एक पुरुष माना जाता था। राज्य ने पुरुष उत्तराधिकारी के जन्म का जश्न मनाना भी शुरू कर दिया था,

4. प्रिंस चार्ल्स (इंग्लैंड)


प्रिंस चार्ल्स महारानी एलिजाबेथ द्वितीय और प्रिंस फिलिप का पहला जन्म लेने वाला बच्चा है। वह ब्रिटिश सिंहासन का उत्तराधिकारी है। महारानी अब 93 वर्ष की हैं और वो परम्परानुसार अपनी मृत्यु तक शासन करेंगी। चार्ल्स को राजा बनने का लंबे समय से इंतजार है। इस दौरान, वह कुछ हसीन अफेयर्स को हाउस ऑफ विंडसर ले आया।


प्रिंस चार्ल्स अक्सर हसी का पात्र बनाये जाते हैं। यह वह लड़का है जो बोर्डिंग स्कूल में उन मौज मस्तियों को समझ नहीं सकता था। यह वह आदमी है जो पौधों को बढ़ने में मदद करने के लिए उनसे बात करता है। वह वही है जिसने अपनी मालकिन को बताया था कि वह उसका टैम्पोन बनना चाहता है। हालाँकि, वह एक परिश्रमी शाही है।


3. मारिया एलेनोरा (ब्रांडेनबर्ग)

इस एक और महारानी की माँ के कुछ ज्यादा ही सनक थी। मारिया का जन्म ११ नवंबर १५९९ में हुआ था। उसके नाना एक सनकी प्रुसिअन ( अब जर्मनी) ड्यूक थे और नानी क्लेवेस के निरंकुश ड्यूक की बहन थीं।


मूड डिसऑर्डर उसके परिवार की परंपरा बन गयी थी जिससे वह भी अछूती नहीं रही। जब वह अपने पति दूर रहती और उसे याद करती तो उसे हिस्टेरिक्स देने की आवश्यकता भी पड़ती थी। वह अपने स्वयं की संतान, स्वीडन की क्रिस्टीना से नफरत करती थी और उसे एक राक्षसनी समझती थी।


उसकी सबसे बड़ी सनक थी एक पुरुष उत्तराधिकारी पैदा करना जो किसी भी राजशाही महिला लिए सामान्य था किन्तु उसकी ये सनक इतनी बढ़ गयी कि हम उसे पागलपन का नाम दे सकते हैं। इसका खामियाज़ा भुगतना पड़ा उसकी पुत्री को।


उसका पति गुस्तावुस अडोल्फोस जनता था की उसकी पत्नी एक बीमार औरत है इसलिए अपनी बेटी को उसने इतना प्यार दिया जो शायद उसकी माँ मारिया एलेनोरा नहीं दे पाती।


2 . इवान द टेरीबल (रूस)

सनकी आदमी अत्याचारी भी हो सकती है और क़ातिल भी। कुछ सनकी सौम्य हो सकते हैं और कुछ तो सारी सीमायें पार कर देते हैं। और उनमे से एक था इवान द टेर्रिबल। जैसा नाम से ही पता चलता है वो अच्छा आदमी नहीं था। उसे इवान चतुर्थ के नाम से भी जाना जाता है। उसका जनम 1530 के अगस्त महीने में हुआ था। वह 1533 से 1584 तक मॉस्को का युवराज था।

अपने शासनकाल के दौरान उसने अपना साम्राज्य बनाया और पोलैण्ड और स्वीडन पर लम्बा चलने वाला युद्ध छेड़ दिया जिमे वो लगभग असफल रहा था। यहाँ तक कि गुस्से में उसने अपने बेटे का भी क़त्ल कर दिया। कहा जाता है कि जिन लोगो ने संत बेसिल का कैथेड्रल बनाया था उसने उनकी आँखें निकलवा दी थी ताकि ऐसी भव्य ईमारत दोबारा न बन सके।

इवान अपनी रोमांटिक ज़िन्दगी में भी सनकी ही था। उसे अपनी बीवियाँ बदलन पसंद था। कभी कभी तो वो अपनी गुस्ताख़ पत्नियों को सुधर गृह भी भेज देता था वो भी तब जब ज़्यादातर दम्पति सुहागरात ही मनाते थे। ये निर्दयी, नीच और अधीर, सत्ता का भूखा पागल शासक जब मारा था तो अपने पीछे बहुत सारे द्व्न्द छोड़ गया।

1 . किंग हेनरी VIII (इंग्लैंड)

किंग हेनरी VIII एक और सनकी अत्याचारी था। लोग कहते है कि ज़्यादा शक्ति इंसान को भ्रष्ट बना देती है, इसके केस में ये बिलकुल सत्य है। इसका जन्म 1491 के जून महीने में हुआ था और उसका शासनकाल 1509 से शुरू हुआ जो की 1547 में खत्म हुआ।

वह एक पुरुष उत्तराधिकारी चाहता जिसमे उसे समस्याएं आति रहती थी। वो इतना क्रूर था कि उसके शासनकाल इतिहासकारो के मतानुसार लगभग 57000 से 72000 लोगो का वध किया गया था।


तो कैसी लगी आपको मेरी ये लिस्ट, कमेंट करके बताएं और यदि कोई और सुझाव है तो स्वागत है।








Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *